Monday, April 15, 2024
HomeFestival WishSunderkand PDF In Hindi

Sunderkand PDF In Hindi

 

सुंदरकांड हिंदू महाकाव्य रामायण का एक अध्याय है। रामायण एक प्राचीन संस्कृत महाकाव्य है जो भगवान राम, उनकी पत्नी सीता और उनके वफादार भक्त हनुमान की कहानी कहता है। इसका श्रेय ऋषि वाल्मिकी को दिया जाता है और इसे प्राचीन भारत के दो प्रमुख संस्कृत महाकाव्यों में से एक माना जाता है, दूसरा महाभारत है। सुंदरकांड पाठ एक पवित्र अनुष्ठान है जिसका हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। महाकाव्य रामायण से व्युत्पन्न, सुंदरकांड उस गौरवशाली अध्याय को संदर्भित करता है जहां भगवान हनुमान भगवान राम की पत्नी सीता को खोजने के लिए एक महान मिशन पर निकलते हैं, जिनका राक्षस राजा रावण ने अपहरण कर लिया था।

यह लेख सुंदरकांड पाठ के सार, इसके आध्यात्मिक लाभों और यह किसी के जीवन में कैसे गहरा सकारात्मक परिवर्तन ला सकता है, इस पर प्रकाश डालता है। सुंदरकांड विशेष रूप से रामायण के पांचवें अध्याय को संदर्भित करता है। यह हनुमान के कारनामों पर केंद्रित है, जो महाकाव्य में एक केंद्रीय पात्र हैं। “सुंदरकांड” शब्द का संस्कृत में अनुवाद “सुंदर अध्याय” या “सुंदर खंड” है, जो रामायण के इस विशेष खंड के महत्व और सुंदरता को दर्शाता है।

Sunderkand Paath Ke Labh-सुंदरकांड पाठ के लाभ

महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण पर आधारित तुलसीकृत महाकाव्य रामचरित मानस का पंचम सोपान है सुंदरकाण्ड। सुंदरकाण्ड में रामदूत, पवनपुत्र हनुमान का यशोगान किया गया है। आओ जानते हैं सुंदरकाण्ड का पाठ करने के चमत्कारिक लाभ।

1. सुंदरकाण्ड का पाठ सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला माना गया है। किसी भी प्रकार की परेशानी या संकट हो, सुंदरकाण्ड के पाठ से यह संकट तुरंत ही दूर हो जाता है।

2. सुंदरकांड के पाठ से भूत, पिशाच, यमराज, शनि राहु, केतु, ग्रह-नक्षत्र आदि सभी का भय दूर हो जाता है।

3. हनुमानजी के सुंदर काण्ड का पाठ सप्ताह में एक बार जरूर करना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र, ज्योतिष के अनुसार भी विषम परिस्थितियों सुंदरकांड पाठ करने की सलाह दी जाती है।

4. जीवन में किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न होती है तो आप संकल्प लेकर लगातार सुंदरकांड का पाठ करें। सुंदरकांड पाठ से एक नहीं बल्कि अनेक सैकड़ों समस्याओं का समाधान तुरंत मिलने लगता है।

5. श्रीराम चरित्र मानस को रचने वाले गोस्वामी तुलसीदास के अनुसार हनुमान जी को जल्द प्रसन्न  करने के लिए सुंदरकांड का पाठ 1 रामबाण उपाय है सुंदरकांड पाठ करने वालों के जीवन में खुशियों का संसार होता है और आपका जीवन सुखमय होता है।

6. सुंदरकांड करने वाले व्यक्ति के अंदर सकारात्मक और विचारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है। वह व्यक्ति किसी भी कार्य में अपनी रुचि दिखाता है तो उसमें सकारात्मक परिणाम मिलते हैं।

7. सुंदरकाण्ड का पाठ करने से व्यक्ति के मन से भय जाता रहता है और आत्मविश्वास एवं इच्छाशक्ति प्रबल हो जाती है।

8. साप्ताहिक पाठ करने से गृहकलेश दूर होता है और परिवार में खुशियां बढ़ती हैं।

9. नियमित पाठ करने से कर्ज और रोग से छुटकारा मिलता है।

10. हनुमानजी की भक्ति करने और नियमित सुंदरकाण्ड का पाठ करने से व्यक्ति जीवन के हर क्षेत्र में सफलता से आगे बढ़ता है

सुंदरकांड पाठ हिंदी में pdf

Full Pdf Link

Sunderkand PDF

Popular posts

My favorites