Friday, July 19, 2024
HomeLoveShayari in Urdu

Shayari in Urdu

Shams Tabrizi

बहुत कम बोलना अब कर दिया है

कई मौक़ों पे ग़ुस्सा भी पिया है

Bahut Kam Bolana Ab Kar Diya Hai

Kaee Mauqon Pe Gussa Bhee Piya Hai

 

न तारे न चाँद न उनका आसमां चाहिए,

मुझको तो बस मेरी मोहब्बत की सलामती चाहिए।

Na Taare Na Chaand Na Unaka Aasamaan Chaahie,

Mujhako To Bas Meree Mohabbat Kee Salaamatee Chaahie.

 

ऐ काश हमारी क़िस्मत में ऐसी भी कोई शाम आ जाए,

एक चाँद फ़लक पर निकला हो एक छत पर आ जाए।

Ai Kaash Hamaaree Qismat Mein Aisee Bhee Koee Shaam Aa Jae,

Ek Chaand Falak Par Nikala Ho Ek Chhat Par Aa Jae.

 

चांद से तो हर किसी को प्यार है,

मैं खुशनसीब हूं कि चांद को मुझसे प्यार है।

Chaand Se To Har Kisee Ko Pyaar Hai,

Main Khushanaseeb Hoon Ki Chaand Ko Mujhase Pyaar Hai.

 

दिन में चैन नहीं ना होश है रात में,

खो गया है चाँद भी देखो बादल के आगोश में।

Din Mein Chain Nahin Na Hosh Hai Raat Mein,

Kho Gaya Hai Chaand Bhee Dekho Baadal Ke Aagosh Mein।

Baksh Nasikh

Baksh Nasikh

तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरत

हम जहाँ में तिरी तस्वीर लिए फिरते हैं

Teree Soorat Se Kisee Kee Nahin Milatee Soorat

Ham Jahaan Mein Tiree Tasveer Lie Phirate Hain

 

ज़िंदगी ज़िंदा-दिली का है नाम

मुर्दा-दिल ख़ाक जिया करते हैं

Zindagee Zinda-Dilee Ka Hai Naam

Murda-Dil Khaak Jiya Karate Hain

 

तेरी यादों की खुशबू से महकती है ज़िन्दगी मेरी,

तेरी आवाज़ की मीठी सी धुन से जगमगाती है ज़िन्दगी मेरी।

Teree Yaadon Kee Khushaboo Se Mahakatee Hai Zindagee Meree,

Teree Aavaaz Kee Meethee See Dhun Se Jagamagaatee Hai Zindagee Meree.

 

Sad Shayri

तेरी यादों की रौशनी में जगमगाती है ज़िन्दगी मेरी,

तेरी आवाज़ की मीठी सी धुन से महकती है ज़िन्दगी मेरी।

Teree Yaadon Kee Raushanee Mein Jagamagaatee Hai Zindagee Meree,

Teree Aavaaz Kee Meethee See Dhun Se Mahakatee Hai Zindagee Meree.

 

तेरी यादों की खुशबू से महकती है ज़िन्दगी मेरी,

तेरी आवाज़ की मीठी सी धुन से जगमगाती है ज़िन्दगी मेरी।

Teree Yaadon Kee Khushaboo Se Mahakatee Hai Zindagee Meree,

Teree Aavaaz Kee Meethee See Dhun Se Jagamagaatee Hai Zindagee Mere

 

Khwaja Haidar Ali Aatish

Khwaja Haidar Ali Aatish

तेरी चाहत का अलम तो देखो,

दिल को बेचैन करती है तेरी बातें।

Teree Chaahat Ka Alam To Dekho,

Dil Ko Bechain Karatee Hai Teree Baaten.

 

कुछ नज़र आता नहीं उस के तसव्वुर के सिवा

हसरत-ए-दीदार ने आँखों को अंधा कर दिया

Kuchh Nazar Aata Nahin Us Ke Tasavvur Ke Siva

Hasarat-E-Deedaar Ne Aankhon Ko Andha Kar Diya

 

बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का

जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ न निकला

Bada Shor Sunate The Pahaloo Mein Dil Ka

Jo Cheera To Ik Qatara-E-Khoon Na Nikala

 

ताउम्र साथ निभाने की वो

कसमे दो पल में टूट जाती है,

मोहब्बत से बने इन रिश्तों में

आखिर कमी कहाँ रह जाती है।

Taumr Saath Nibhaane Kee Vo

Kasame Do Pal Mein Toot Jaatee Hai,

Mohabbat Se Bane In Rishton Mein

Aakhir Kamee Kahaan Rah Jaatee Hai.

 

Bestwishesall Shayri

हालातों से भी हार

जाते है कुछ रिश्ते,

हर रिश्ते में बेवफाई

ही नहीं होती।

Haalaaton Se Bhee Haar

Jaate Hai Kuchh Rishte,

Har Rishte Mein Bevaphaee

Hee Nahin Hotee.

 

मीलो के फासले भी

क्या खूब होते है,

यकीन मानो दूर के रिश्ते

दिल क़रीब होते है।

Meelo Ke Phaasale Bhee

Kya Khoob Hote Hai,

Yakeen Maano Door Ke Rishte

Dil Qareeb Hote Hai.

 

जो रिश्ते टूट जाते हैं

वो दुबारा जुड़ा नहीं करते,

जैसे मुरझाए हुए फूल

दुबारा खिला नहीं करते।

Jo Rishte Toot Jaate Hain

Vo Dubaara Juda Nahin Karate,

Jaise Murajhae Hue Phool

Dubaara Khila Nahin Karate.

 

बिना ग़लती के हाथ जोड़ते

और पैर पकड़ते देखा हैं,

रिश्तों को बचाने के लिये लोगों

को कितना कुछ करतें देखा हैं।

Bina Galatee Ke Haath Jodate

Aur Pair Pakadate Dekha Hain,

Rishton Ko Bachaane Ke Liye Logon

Ko Kitana Kuchh Karaten Dekha Hain.

 

Attitude Shayri

 

हवा में सुनी हुई बातों

पर यकीन नहीं करें,

कान के कच्चे लोग अक्सर

अच्छे रिश्ते खो देते है।

Hava Mein Sunee Huee Baaton

Par Yakeen Nahin Karen,

Kaan Ke Kachche Log Aksar

Achchhe Rishte Kho Dete Hai.

Attitude Shayri

कुछ रिश्ते अधूरे ही अच्छे लगते है,

पूरे हो जाने से उनकी

एहमियत कम हो जाती है।

Kuchh Rishte Adhoore Hee Achchhe Lagate Hai,

Poore Ho Jaane Se Unakee

Ehamiyat Kam Ho Jaatee Hai.

 

Shayari Shayari

 

सब कुछ जानकर भी

अंजान बनकर रहता हूँ,

अंजान बन कुछ रिश्ते

निभा लिया करता हूँ।

Sab Kuchh Jaanakar Bhee

Anjaan Banakar Rahata Hoon,

Anjaan Ban Kuchh Rishte

Nibha Liya Karata Hoon

 

Shayari Shayari

हम रिश्तों को ज्यादा

अहमियत नहीं देते,

इसका मतलब यह नहीं कि

हमे रिश्ते निभाने नहीं आते।

Ham Rishton Ko Jyaada

Ahamiyat Nahin Dete,

Isaka Matalab Yah Nahin Ki

Hame Rishte Nibhaane Nahin Aate.

Allama Iqbal Poetry

Allama Iqbal Poetry

जिस दिन तुझको ना देखूं, तेरी रूह तक ना पहुंचूं,

उस दिन मेरी रूह से रूह का रिश्ता टूट जाएगा।

Jis Din Tujhako Na Dekhoon, Teree Rooh Tak Na Pahunchoon,

Us Din Meree Rooh Se Rooh Ka Rishta Toot Jaega.

 

 

जब किसी रिश्ते की

बुनियाद माफी ही रह जाये,

तो बेहतर है उसे

पूर्ण विराम दे दिया जाए।

Jab Kisee Rishte Kee

Buniyaad Maaphee Hee Rah Jaaye,

To Behatar Hai Use

Poorn Viraam De Diya Jae.

 

Allama Iqbal Shayari Hindi

मुस्कान के भी कई किरदार बदलते हैं,

ये आँसू ही हैं जो रिश्ते संभाले बैठे हैं।

Muskaan Ke Bhee Kaee Kiradaar Badalate Hain,

Ye Aansoo Hee Hain Jo Rishte Sambhaale Baithe Hain.

 

मुलाकातें जरूरी हैं

अगर रिश्ते निभाने हैं,

लगाकर भूल जाने से तो

पौधे भी सूख जाते हैं।

Mulaakaaten Jarooree Hain

Agar Rishte Nibhaane Hain,

Lagaakar Bhool Jaane Se To

Paudhe Bhee Sookh Jaate Hain.

 

ख्वाहिश सबकी है कि रिश्ते सुधारें,

पर चाहत सबकी ये है

कि शुरुआत उधर से हो।

Khvaahish Sabakee Hai Ki Rishte Sudhaaren,

Par Chaahat Sabakee Ye Hai

Ki Shuruaat Udhar Se Ho.

 

Allama Iqbal Quotes

 

कुछ रिश्तों के धागे इतने कच्चे होते हैं,

शक की एक सुई से कट जाते हैं।

Kuchh Rishton Ke Dhaage Itane Kachche Hote Hain,

Shak Kee Ek Suee Se Kat Jaate Hain.

 

रिश्तों की कद्र वहा होती हैं,

जहाँ आदमीं की औकात शुरू होती है।

Rishton Kee Kadr Vaha Hotee Hain,

Jahaan Aadameen Kee Aukaat Shuroo Hotee Hai.

 

Josh Malihabadi

Josh Malihabadi

हम गये थे उससे करने शिकवा-ए-दर्द फ़िराक़

मुस्कुराकर उसने देखा सब गिला जाता रहा

Ham Gaye The Usase Karane Shikava-E-Dard Firaaq

Muskuraakar Usane Dekha Sab Gila Jaata Raha

 

दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया

जब चली सर्द हवा मैंने तुझे याद किया

Dil Kee Choton Ne Kabhee Chain Se Rahane Na Diya

Jab Chalee Sard Hava Mainne Tujhe Yaad Kiya

 

फिर सर किसी के दर पे झुकाए हुए हैं हम

पर्दे फिर आसमाँ के उठाए हुए हैं हम

Phir Sar Kisee Ke Dar Pe Jhukae Hue Hain Ham

Parde Phir Aasamaan Ke Uthae Hue Hain Ham

Previous article
Next article

Popular posts

My favorites