Sunday, April 14, 2024
HomeLoveShakeel Badayuni

Shakeel Badayuni

Shakeel Badayuni

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आया

Ai Mohabbat Tire Anjaam Pe Rona Aaya

Jaane Kyoon Aaj Tire Naam Pe Rona Aaya

 

कैसे कह दूँ कि मुलाक़ात नहीं होती है

रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है

Kaise Kah Doon Ki Mulaaqaat Nahin Hotee Hai

Roz Milate Hain Magar Baat Nahin Hotee Hai

 

चौदहवीं का चाँद हो, या आफ़ताब हो

जो भी हो तुम खुदा कि क़सम, लाजवाब हो

Chaudahaveen Ka Chaand Ho, Ya Aafataab Ho

Jo Bhee Ho Tum Khuda Ki Qasam, Laajavaab Ho

 

क्यूं इक तरफ़ निगाह जमाए हुए हो तुम

क्या राज़ है जो मुझ से छुपाए हुए हो तुम

Kyoon Ik Taraf Nigaah Jamae Hue Ho Tum

Kya Raaz Hai Jo Mujh Se Chhupae Hue Ho Tum

 

क्या ख़ुशी में ज़िंदगी का होश कम रह जाएगा

ग़म अगर मिट भी गया एहसास-ए-ग़म रह जाएगा

Kya Khushee Mein Zindagee Ka Hosh Kam Rah Jaega

Gam Agar Mit Bhee Gaya Ehasaas-E-Gam Rah Jaega

Momin Khan Momin

Momin Khan Momin

तुम हमारे किसी तरह न हुए

वर्ना दुनिया में क्या नहीं होता

Tum Hamaare Kisee Tarah Na Hue

Varna Duniya Mein Kya Nahin Hota

 

न करो अब निबाह की बातें

तुम को ऐ मेहरबान देख लिया

Na Karo Ab Nibaah Kee Baaten

Tum Ko Ai Meharabaan Dekh Liya

 

क्या जाने क्या लिखा था उसे इज़्तिराब में

क़ासिद की लाश आई है ख़त के जवाब में

Kya Jaane Kya Likha Tha Use Iztiraab Mein

Qaasid Kee Laash Aaee Hai Khat Ke Javaab Mein

 

किसी का हुआ आज कल था किसी का

न है तू किसी का न होगा किसी का

Kisee Ka Hua Aaj Kal Tha Kisee Ka

Na Hai Too Kisee Ka Na Hoga Kisee Ka

रह के मस्जिद में क्या ही घबराया

रात काटी ख़ुदा ख़ुदा कर के

Rah Ke Masjid Mein Kya Hee Ghabaraaya

Raat Kaatee Khuda Khuda Kar Ke

Dushyant Kumar

Dushyant Kumar

वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है

माथे पे उस के चोट का गहरा निशान है

Vo Aadamee Nahin Hai Mukammal Bayaan Hai

Maathe Pe Us Ke Chot Ka Gahara Nishaan Hai

 

रहनुमाओं की अदाओं पे फ़िदा है दुनिया

इस बहकती हुई दुनिया को सँभालो यारों

Rahanumaon Kee Adaon Pe Fida Hai Duniya

Is Bahakatee Huee Duniya Ko Sanbhaalo Yaaron

 

आज वीरान अपना घर देखा, तो कई बार झाँक कर देखा

पाँव टूटे हुए नज़र आए, एक ठहरा हुआ खंडर देखा

Aaj Veeraan Apana Ghar Dekha, To Kaee Baar Jhaank Kar Dekha

Paanv Toote Hue Nazar Aae, Ek Thahara Hua Khandar Dekha

 

कैसे आकाश में सूराख़ नहीं हो सकता

एक पत्थर तो तबीअ’त से उछालो यारों

Kaise Aakaash Mein Sooraakh Nahin Ho Sakata

Ek Patthar To Tabeet Se Uchhaalo Yaaron

 

गूँगे निकल पड़े हैं ज़बाँ की तलाश में

सरकार के ख़िलाफ़ ये साज़िश तो देखिए

Goonge Nikal Pade Hain Zabaan Kee Talaash Mein

Sarakaar Ke Khilaaf Ye Saazish To Dekhie

 

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,

मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।।

Sirph Hangaama Khada Karana Mera Makasad Nahin,

Meree Koshish Hai Ki Ye Soorat Badalanee Chaahie..

 

हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए,

इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

Ho Gaee Hai Peer Parvat See Pighalanee Chaahie,

Is Himaalay Se Koee Ganga Nikalanee Chaahie.

 

आज यह दीवार परदों की तरह हिलने लगी

शर्त थी लेकिन कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।।

Aaj Yah Deevaar Paradon Kee Tarah Hilane Lagee

Shart Thee Lekin Ki Ye Buniyaad Hilanee Chaahie..

 

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही

हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए

Mere Seene Mein Nahin To Tere Seene Mein Sahee

Ho Kaheen Bhee Aag Lekin Aag Jalanee Chaahie

Nida fazmi

Nida fazmi

होश वालों को ख़बर क्या बे-ख़ुदी क्या चीज़ है

इश्क़ कीजे फिर समझिए ज़िंदगी क्या चीज़ है

Hosh Vaalon Ko Khabar Kya Be-Khudee Kya Cheez Hai

Ishq Keeje Phir Samajhie Zindagee Kya Cheez Hai

 

अब किसी से भी शिकायत न रही

जाने किस किस से गिला था पहले

Ab Kisee Se Bhee Shikaayat Na Rahee

Jaane Kis Kis Se Gila Tha Pahale

 

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं

रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं

Apanee Marzee Se Kahaan Apane Safar Ke Ham Hain

Rukh Havaon Ka Jidhar Ka Hai Udhar Ke Ham Hain

 

ग़म है आवारा अकेले में भटक जाता है

जिस जगह रहिए वहाँ मिलते-मिलाते रहिए

Gam Hai Aavaara Akele Mein Bhatak Jaata Hai

Jis Jagah Rahie Vahaan Milate-Milaate Rahie

 

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता

Kabhee Kisee Ko Mukammal Jahaan Nahin Milata

Kaheen Zameen Kaheen Aasamaan Nahin Milata

 

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी

जिस को भी देखना हो कई बार देखना

Har Aadamee Mein Hote Hain Das Bees Aadamee

Jis Ko Bhee Dekhana Ho Kaee Baar Dekhana

 

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो

ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो

Dhoop Mein Nikalo Ghataon Mein Naha Kar Dekho

Zindagee Kya Hai Kitaabon Ko Hata Kar Dekho

 

ख़ुदा के हाथ में मत सौंप सारे कामों को

बदलते वक़्त पे कुछ अपना इख़्तियार भी रख

Khuda Ke Haath Mein Mat Saump Saare Kaamon Ko

Badalate Vaqt Pe Kuchh Apana Ikhtiyaar Bhee Rakh

Kaifi azmi

Kaifi azmi

जो वो मिरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा

बिछड़ के उनसे सलीक़ा न ज़िन्दगी का रहा

Jo Vo Mire Na Rahe Main Bhee Kab Kisee Ka Raha

Bichhad Ke Unase Saleeqa Na Zindagee Ka Raha

 

मेरा बचपन भी साथ ले आया

गाँव से जब भी आ गया कोई

Mera Bachapan Bhee Saath Le Aaya

Gaanv Se Jab Bhee Aa Gaya Koee

 

आज फिर टूटेंगी तेरे घर नाज़ुक खिड़कियाँ

आज फिर देखा गया दीवाना तेरे शहर में

Aaj Phir Tootengee Tere Ghar Naazuk Khidakiyaan

Aaj Phir Dekha Gaya Deevaana Tere Shahar Mein

बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में

कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

Bas Ik Jhijak Hai Yahee Haal-E-Dil Sunaane Mein

Ki Tera Zikr Bhee Aaega Is Fasaane Mein

 

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं

दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं

Jhukee Jhukee See Nazar Be-Qaraar Hai Ki Nahin

Daba Daba Sa Sahee Dil Mein Pyaar Hai Ki Nahin

Previous article
Next article

Popular posts

My favorites