Wednesday, May 29, 2024
HomeLoveSelfish Matlabi Rishte Quotes

Selfish Matlabi Rishte Quotes

Family Matlabi Rishte Quotes

ज़िंदगी की राहों में, कुछ लोग मतलबी होते हैं,

चाहते हैं सिर्फ फायदा, प्यार की बातों से दूर रहते हैं।

(In the paths of life, some people are selfish,

They only seek benefits, staying away from talks of love.)

 

दिल के रिश्ते बना लेते हैं, और मतलब की दुकान लगा देते हैं,

इस मोहब्बत का सिला तो कभी न पाएंगे, इन मतलबी रिश्तों का इशारा नहीं समझते हैं।

(They form relationships of the heart, but set up shops of selfishness,

They will never get the reward of this love, they don’t understand the sign of selfish relationships.)

 

प्यार में जब मतलबी नजर आते हैं,

उनके लिए प्यार की कहानी अधूरी रह जाती है।

(When selfishness is seen in love,

The love story remains incomplete for them.)

 

खुद को जो बेच लेते हैं, वो दिल से अजनबी होते हैं,

प्यार की बातें तो सिर्फ कहने को होती हैं, उनको समझना किसको आता है।

(Those who sell themselves become strangers to the heart,

Love talks are only to be spoken, who understands them.)

 

Family Matlabi Rishte Quotes

दिल से जुदा, मतलबी साथी कोई,

प्यार की मिठास में वो सिर्फ कीमती खोया।

(A selfish companion, separate from the heart,

Lost in the sweetness of love, they only value.)

 

मोहब्बत में जो मतलब ढूंढ़ते हैं,

उन्हें रिश्ते की सच्चाई की कोई पहचान नहीं होती।

(Those who seek selfish motives in love,

They don’t recognize the truth of relationships.)

 

दिल की बातें जो समझ नहीं पाते,

मतलब की दुकान में ही खो जाते हैं।

(Those who cannot understand matters of the heart,

Get lost in the shop of selfishness.)

 

प्यार और मतलब में फर्क समझा नहीं पाते,

दिल की अदा से सिर्फ धोखा खा जाते हैं।

(They cannot understand the difference between love and selfishness,

They only end up betrayed by the grace of the heart.)

 

रिश्तों की कमजोरी होती है मतलब में,

प्यार की ताक़त को इन्हें कभी नहीं समझ में आती।

(The weakness of relationships lies in selfishness,

They never understand the power of love.)

 

इस दुनिया में मोहब्बत की कीमत नहीं है,

जहाँ मतलब ही सब कुछ है, वहाँ दिल को क्या माना।

(In this world, love is worthless,

Where only selfishness matters, what value does the heart hold?)

 

Selfish Matlabi Rishte Quotes

Selfish Matlabi Rishte Quotes

जब तक दिल में सिर्फ मतलब हो,

वफा की कोई क़ीमत नहीं होती।

(As long as the heart is filled with selfish motives,

There’s no value for loyalty.)

 

इश्क़ के बज़्म में मतलब का गीत गाते हैं,

अपने ही दिल को हम खुद ही बेवफा बनाते हैं।

(In the gathering of love, they sing the song of selfishness,

We ourselves make our hearts disloyal.)

 

रिश्तों की दुकान में सिर्फ लाभ की तलाश,

इन मतलबी रिश्तों में मिले सिर्फ दुख का भंडार।

(In the shop of relationships, only the search for profit,

In these selfish relationships, only a reservoir of sorrow is found.)

 

प्यार की मिठास से वो अनजान रहते हैं,

मतलब की बातों में हमेशा ही मुसीबतों की मुसीबत बनते हैं।

(They remain strangers to the sweetness of love,

Always becoming troubles in the talks of selfishness.)

 

दिल से जुदा, रिश्तों की यह दुनिया,

मतलब की परछाई में हम सब अकेला हैं।

(Separated from the heart, in the world of relationships,

In the shadow of selfishness, we all are alone.)

 

Selfish Matlabi Rishte Quotes

मतलब से भरी इन आँखों में,

प्यार की चमक कहाँ है।

(In these eyes filled with selfishness,

Where is the sparkle of love?)

 

रिश्तों की मांग केवल मतलब है,

प्यार की क़ीमत तो कोई नहीं जानता।

(The demand of relationships is only selfishness,

No one knows the value of love.)

 

मोहब्बत की बातें करना तो आसान है,

पर इन मतलबी दिलों को कौन समझाए ये ज़िन्दगी की कठिन राहें।

(Talking about love is easy,

But who can make these selfish hearts understand the difficult paths of life.)

 

इन दिलों में केवल अपने ही दर्द है,

मतलब के साथी दिलों की अदा को कभी समझ नहीं पाते।

(These hearts only have their own pain,

Companions of selfishness never understand the grace of hearts.)

 

प्यार और मतलब में फ़र्क होता है,

पर इस ज़माने में अक्सर ये अलग पहचान नहीं पाता।

(There is a difference between love and selfishness,

But in this world, often this difference isn’t recognized.)

 

Matlabi Rishte Dhokebaaz Shayari

Matlabi Rishte Dhokebaaz Shayari

इन दिलों में बसी थी मोहब्बत की आस,

पर आँखों में था मतलब का नकाब।

(In these hearts resided the hope of love,

But in the eyes, there was the veil of selfishness.)

 

धोखेबाज़ रिश्तों की कहानियों में,

मोहब्बत की तलाश में हम हमेशा ही खोते रहते हैं।

(In the stories of deceitful relationships,

We always lose ourselves in the search for love.)

 

दिल में बसा था जो प्यार का आशियाना,

वहाँ बिछे थे मतलब के काँटे।

(In the heart resided the abode of love,

There lay the thorns of selfishness.)

 

मोहब्बत का वादा करके धोखा देने वाले,

दिलों की आँधी में हमेशा ही छोड़ जाते हैं।

(Those who promise love but deceive,

They always leave in the storm of hearts.)

 

रिश्तों के गहरे जंगल में खोया,

मतलब के दामन में हमेशा ही धोखा पाया।

(Lost in the deep jungle of relationships,

Always found deceit in the embrace of selfishness.)

 

Matlabi Rishte Dhokebaaz Shayari

धोखेबाज़ी की सजा तो मोहब्बत में मिलती है,

पर कभी वो धोखेबाज़ को इसका एहसास नहीं होता।

(The punishment for deceit is found in love,

But the deceitful one never realizes it.)

 

जो वादा करते हैं मोहब्बत का,

उनके लबों से निकलते हैं मतलब के दर्दनाक सवाल।

(Those who promise love,

From their lips come the painful questions of selfishness.)

 

धोखेबाज़ी का अहसास दिल को होता है,

जब मतलबी रिश्तों में हम खुद को खोते हैं।

(The heart feels the sense of deceit,

When in selfish relationships, we lose ourselves.)

 

मोहब्बत की बहार में बिछे थे फूल,

पर मतलब की छाया में वो ज़रूरत से ज्यादा कड़वे थे।

(In the spring of love, flowers were spread,

But in the shadow of selfishness, they were more bitter than necessary.)

 

धोखेबाज़ रिश्तों की कहानियों में,

मोहब्बत की तलाश में हम हमेशा ही चोट खाते रहते हैं।

(In the tales of deceitful relationships,

We always get hurt in the search for love.)

 

Matlabi Family Rishte Shayari

Matlabi Family Rishte Shayari

पराया रिश्तों की दुनिया में खो गए हैं,

खुद के प्यार की तलाश में हम किस मोहब्बत की कोशिश करें।

(Lost in the world of unfamiliar relationships,

In search of our own love, what efforts do we make for love?)

 

परिवार में भी मिलता है मतलबी अंदाज,

प्यार की भावना को हम कहाँ तक समझें।

(Even in family, one finds selfish styles,

How far can we understand the feelings of love?)

 

रिश्तों की मिठास की तलाश में,

हम अकेले ही खो गए मतलब के जंजीरों में।

(In search of the sweetness of relationships,

We got lost alone in the chains of selfishness.)

 

प्यार की बातों को सिर्फ सपनों में पाया,

वास्तविकता में, हर रिश्ता मतलब के विकार में ढल जाता है।

(Love talks were only found in dreams,

In reality, every relationship gets engulfed in the deformity of selfishness.)

 

परिवार का साथ भी कभी-कभी धोखेबाज़ होता है,

मतलब के बाज़ार में, प्यार की कीमत को कोई समझ नहीं पाता।

(Even the support of family sometimes proves deceitful,

In the market of selfishness, no one understands the value of love.)

 

Matlabi Family Rishte Shayari

दिल की गहराईयों में छुपी मोहब्बत,

परिवारी रिश्तों के मतलबी चेहरों में गुम हो जाती है।

(Love hidden in the depths of the heart,

Gets lost in the selfish faces of familial relationships.)

 

अपनों के बीच भी दिखता है मतलब का आँचल,

प्यार की बहार में क्या हाल हमारा हो गया है।

(Even among loved ones, the shadow of selfishness is visible,

What has become of us in the spring of love?)

 

परिवार में हमेशा बजता है मतलब का ताना,

प्यार की सरगम में कब तक छुपा होता है हमारा जीना।

(In family, the note of selfishness always plays,

How long can our living be hidden in the melody of love?)

 

मोहब्बत का एहसास सिर्फ अकेलेपन में होता है,

परिवार में भी मतलब का ही होता है रंग सबका।

(The feeling of love is only in solitude,

In family too, everyone’s color is that of selfishness.)

 

प्यार के नाम पर धोखा देते हैं अपने ही,

परिवार के रिश्तों में मतलब की बातों का धूर्त खेल चलता रहता है।

(We deceive in the name of love,

The cunning game of selfishness continues in family relationships.)

 

Matlabi Rishte Ghamand Shayari

Matlabi Rishte Ghamand Shayari

घमंड से भरी इन आँखों में,

मोहब्बत की राहों को हमेशा ही खो जाते हैं।

(In these eyes filled with arrogance,

We always lose the paths of love.)

 

घमंड से भरी इन बातों में,

प्यार की मीठी बातों को कभी समझ नहीं पाते हैं।

(In these words filled with arrogance,

We never understand the sweet talks of love.)

 

घमंड से भरी इन दिलों में,

मोहब्बत के नफरत के सिर्फ सपने होते हैं।

(In these hearts filled with arrogance,

The dreams of love turn into hatred.)

 

घमंड की दुनिया में, प्यार गुम हो जाता है,

जब मतलबी रिश्तों की हवा सबको अपने जैसा बना लेती है।

(In the world of arrogance, love gets lost,

When the air of selfish relationships makes everyone like itself.)

 

घमंड से भरी है ये मोहब्बत की दुनिया,

जहाँ सच्चा प्यार भी अक्सर अपना राज छुपाना सीखता है।

(This world of love is filled with arrogance,

Where even true love often learns to hide its secrets.)

 

Matlabi Rishte Ghamand Shayari

प्यार के नाम पर घमंड छुपा होता है,

और मतलब की राहों में हम अकेले ही खो जाते हैं।

(Arrogance is hidden in the name of love,

And we get lost alone in the paths of selfishness.)

 

घमंड के पहाड़ों के पीछे छिपी है मोहब्बत,

पर दिलों की आवाज़ को सुनने का शौक़ नहीं होता।

(Love is hidden behind the mountains of arrogance,

But there is no desire to listen to the voices of hearts.)

 

प्यार की बातें करना तो आसान है,

पर इन घमंडी दिलों को कौन समझाए, कितनी मुश्किल राहें हैं।

(Talking about love is easy,

But who can make these arrogant hearts understand, how difficult the paths are.)

 

घमंड से भरी इन आँखों में,

प्यार की बहार को ना जाने क्यों खो जाते हैं।

(In these eyes filled with arrogance,

Why do we lose the spring of love?)

 

घमंडी रिश्तों की कहानियों में,

प्यार का सफर कभी अधूरा ही रह जाता है,

क्योंकि घमंड की दुनिया में, इसका कोई महत्त्व नहीं होता।

(In the tales of arrogant relationships,

The journey of love often remains incomplete,

Because in the world of arrogance, it holds no significance.)

 

Rishte Ghamand Shayari

Rishte Ghamand Shayari

घमंड से भरे हुए ये रिश्ते,

प्यार की मिठास से कभी नज़र नहीं आते।

(These relationships filled with arrogance,

Never catch a glimpse of the sweetness of love.)

 

घमंड से उठे हुए इन दिलों में,

प्यार की धड़कन कभी बसी ही नहीं।

(In these hearts raised with arrogance,

The heartbeat of love never finds a home.)

 

घमंड की चादर से ढके हुए ये रिश्ते,

प्यार की रौशनी को कभी नहीं पहचानते।

(These relationships covered with the blanket of arrogance,

Never recognize the light of love.)

 

घमंड की दीवार से घिरे हुए ये रिश्ते,

प्यार की मोहब्बत को कभी अनुभव नहीं करते।

(These relationships surrounded by the wall of arrogance,

Never experience the love of affection.)

 

Rishte Ghamand Shayari

घमंडी रिश्तों की कहानी हमेशा अधूरी,

क्योंकि अहंकार का अंत होता है सच्चे प्यार में ज़रूरी।

(The story of arrogant relationships always remains incomplete,

Because the end of arrogance is necessary in true love.)

 

घमंड से भरी हुई ये आँखें,

प्यार की खोज में हमेशा ही अंधेरे में रहती हैं।

(These eyes filled with arrogance,

Always remain in darkness in the search for love.)

 

घमंड से भरी हुई ये बातें,

प्यार की मीठी भाषा को कभी समझ नहीं पातीं।

(These words filled with arrogance,

Never understand the sweet language of love.)

 

घमंड से भरा हुआ ये दिल,

प्यार के सुर में कभी नहीं धड़कता।

(This heart filled with arrogance,

Never beats to the rhythm of love.)

 

घमंड की आबरू से भरे हुए ये लोग,

प्यार के ताज़ को कभी नहीं पहनते।

(These people filled with the pride of arrogance,

Never wear the crown of love.)

 

घमंड से भरी हुई ये दुनिया,

प्यार के सच्चे रिश्तों को कभी नहीं समझती।

(This world filled with arrogance,

Never understands the true relationships of love.)

 

Bharosa Rishte Dhoka Shayari

Bharosa Rishte Dhoka Shayari

भरोसा रिश्तों की आस, धोखा मिलता है,

प्यार की बातों में भी ज़हर छिपा मिलता है।

(In the hope of trusting relationships, betrayal is found,

Even in the talks of love, poison is hidden.)

 

दिलों में बसी हुई उम्मीद, खोखला साबित होता है,

जब भरोसा टूट जाता है, तो धोखा नज़र आता है।

(The hope residing in hearts proves hollow,

When trust is broken, betrayal is seen.)

 

भरोसे की बातें अक्सर धोखे में बदल जाती हैं,

प्यार की दुनिया में, धोखा ही मिलता हैं।

(Words of trust often turn into betrayal,

In the world of love, betrayal is all that’s found.)

 

रिश्तों में जब धोखा मिलता है, तो दर्द होता है,

प्यार की ख्वाहिश रह जाती है, और भरोसा तुट जाता है।

(When betrayal is found in relationships, there is pain,

The desire for love remains unfulfilled, and trust is broken.)

 

Bharosa Rishte Dhoka Shayari

भरोसा जब टूट जाता है, तो दिल टूट जाता है,

प्यार की बातों में जब धोखा मिलता है, तो सच मिट जाता है।

(When trust is broken, the heart breaks,

When betrayal is found in love, truth is erased.)

 

रिश्तों की मिठास में, ज़हर छिपा होता है,

जब भरोसा टूट जाता है, तो धोखा दिखा होता है।

(In the sweetness of relationships, poison is hidden,

When trust is broken, betrayal is revealed.)

 

भरोसा किया था उनके वादों पे,

पर धोखा मिला उनकी आँखों की बातों में।

(Trust was placed in their promises,

But betrayal was found in the words of their eyes.)

 

धोखा मिला जब उनकी मीठी बातों में,

तो प्यार की ख्वाहिश रह गई अधूरी हमारी रातों में।

(When betrayal was found in their sweet words,

The desire for love remained incomplete in our nights.)

 

भरोसा किया था उनके साथ, उनकी मोहब्बत में,

पर धोखा मिला उनकी ताक़त की छाया में।

(Trust was placed in their company, in their love,

But betrayal was found in the shadow of their strength.)

 

धोखा मिला जब उनकी आँखों की झलक में,

तो भरोसा तोड़ा गया हमारे दिलों के बीच की सज़ा में।

(When betrayal was found in the glimpse of their eyes,

Trust was broken as punishment between our hearts.)

Previous article
Next article

Popular posts

My favorites